Long time…


kaafi waqt guzra

tere chehre ke deedar paaye

Jigar mein lakh ankahe afsaane

khamoshiyo ke darmayan hamne they chipaye

nazaro mein intezaar ek mulakat ka

jo milo kabhi toh tumhe batlaye..



काफ़ी वक्त गुज़रा 

तेरे चेहरे के दीदार पाये 

जिगर में लाख अनकहे अफ़साने 

खामोशियों  के दरम्यान हमने थे  छुपाएँ 

नज़रों को इन्तेज़ार बस्स एक मुलाकात का 

जो कभी मिलों तो तुम्हे बतलाये..


Its been a long time

since i had glimse of your face

There are lot of unsaid tales 

remains in heart

that i used to hide behind 

my silence

Eyes will be waiting 

to meet you for once only

to tell you everything 

once you will meet..

Intezaar(इंतज़ार )

Kaha kaha dhundha tumhe

library mein kitaabo ke peeche se

canteen mein seediyo ke neeche se

cinema hall se rangeen malls mein

disc ki anjaani bheed mein

thirkte kadamo ke beech mein

iski uski har kisi ki partiyo mein

bina invitation ki shaadiyo mein

par tumhe kya 

tum toh ek sawaal ho

lakeero mein gum kahi

kismat ka ankaha raaz ho

intezaar hai tumhara 

miloge tum hamein jald hi kahi

kyunki humein pata hai

ke jise hum dhund rahe

kahi na kahi wo humein bhi dhund raha hai


कहाँ कहाँ ढूंढा तुम्हे 

लाइब्ररी में किताबों के पीछे से 

केन्टीन में सीढियों के नीचे से 

सिनेमा हॉल से रंगीन माल्स में 

डिस्को की अनजानी भीड़ में 

थिरकते कदमों के बीच में 

इसकी उसकी हर किसी की पार्टियों में 

बिना इन्विटेशन की शादियों में 

पर तुम्हे क्या 

तुम तो एक सवाल हो 

लकीरों में गूम कहीँ 

किस्मत का अनकहा राज़ हो 

इन्तेज़ार है तुमहरा 

मीलोगे हमें तुम जल्द ही कहीँ 

क्युँकि हमें पता है 

के जिसे हम ढूँढ रहे है 

कहीँ ना कहीँ वो हमें ढूँढ़ रहा है