Love & Happiness

We used to wander a lot in search of
materialistic love & happiness to feed our lives and apparently lose many opportunities to cherish precious moments of life back in time while searching for materialistic needs,
wherein world of all love & happiness resides somewhere deep inside in us only, all it needs a look beyond selfishness.

Baawre mann kyu bhatkta hai
Ungliyo se keemati samay sarakta hai
Dhundhta kya dar-b-dar
pyaar aur khushiyan jahaan ki
Jahaan ki khushiya aur pyaar
tere andar basta hai

बावरे मन क्यूँ भटकता है
उंगलियों से कीमती समय सरकता है
ढुँढता क्या दर-ब-दर
प्यार और खुशियाँ जहाँ की
जहाँ की खुशियाँ और प्यार
तेरे अंदर बसता है!

-prashantt

Karwaan

A hindi poetic piece inspired from a lovely saying “Do not ask for the destination when the journey is beautiful”

Phoolo ka murjhaana toh yaad raha
Zindagi ka taraana hi bhool gaya
Yaad aaya ab yeh ki safar mein hai hum
Safar kabhi kahi humsafar nahi rehta
Manzil ki talash mein ek kadam jo thehra
Ke khubsurat karwaan hi bhool gaya.

Prashantt

Maykhana

Kaanch ke sheeshe tale jannat utarti
Surkh gazal si rooh mein chalkati
Nazar tike to mehbooba si dikhti
Suroor muhabbat se zyaada
Jigar ke raaz bayaan karti
Khushiyo or gam ki bheed me
Ek pyaale mein band ujaalo mein
Maykhano men shaam dhalte kahaniya milti.

हिसाब

यादों का हिसाब रख रहा हूँ
सीने में अज़ाब रख रहा हूँ

तुम कुछ कहे जाओ क्या कहूँ मैं
बस दिल में जवाब रख रहा हूँ

दामन में किए हैं जमा गिर्दाब
जेबों में हबाब रख रहा हूँ

आएगा वो नख़वती सो मैं भी
कमरे को ख़राब रख रहा हूँ

तुम पर मैं सहीफ़ा-हा-ए-कोहना
इक ताज़ा किताब रख रहा हूँ

I have read this wonderful lines some years back and still are the best i have ever read.

Mashoor

Kambhakt saadgi hamaari andhero ki tabeer huiTalkh mizaz hote to mashoor hum bhi hote.

तुम (Tum)

एक उम्र बीत गयी
एक जमाना गुज़र गया
तेरे साथ गुजारे पलों का पैमाना टूट गया
वादों और बातों में बनी थी जो यादें
तेरी उन यादों का फ़साना छूट गया
मोहब्बत के सुर तो थे बेपनाह तुमसे
तुम क्या गये, मेरे
साज़ो का तराना बिखर गया

Ek umra beet gayi
Ek zamaana guzar gaya
Tere saath guzre palo ka paimana toot gaya
Vaado aur baaton mein bani thi jo yaadien
Teri un yaafon ka fasaana chooth gaya
Mohabbat ke sur toh bepanah thay tumse
Tum kya gaye mere
Saazo ka taraana bikhar gaya

📝I was scrolling down the pages of my dear diary and found this piece of writing.I hope you enjoyed reading it.

मुलाकात (Mulakat)

Safar ek tarafa mera
mohtaaz nahi manzilo ka
ke jaana jaha hai
wo jaha acha nahi lagta
haseen raasto par chalna
hamari fitrat mein nahi basta
mulakat intezaar mein hai
aur hum un aankho ko dhundhte
jinme sukoon hai chain hai
hai ek thehrav umrabhar ka
khanabadosh hum bhi hai
musafir zindagi ke wo bhi hai
yakeenan kisi mod par toh mulakat hogi!

-prashantt

Broken tough!

सुना था टूटकर चीज़े बिखर जाती है जुड़ती कहाँ है बिखरी चीज़े तित्तर बित्तर हो जाती है पर इश्क में टूटा दिल तो काफी सख्त हो गया है।

___________________________________

I’ve heard that things get scatter once broken Scattered things will get disperse instead fusing back again however broken heart in love became too tough.

-prashantt

Pic courtesy: Google

Mulakat

Mulakat hoti hai roz shaam unse
khwabo ke haseen galiyoro mein
chuskiya chai ki chalti rehti hai intezaar mein
ke aaoge kabhi toh milne unfaithful coffeeshop mein☕

ख्वाब 💭

ये जो ख्वाब मेरे है
हथेलियों की लकीरों से तेढे मेढे है
आँखो में उम्मीद जगाते है
जिंदगी हसीन बनाते है
जख्मों पर मरहम लगाते है
अंधेरों में उजाले बरसाते है
हौसलों को मंजिल दिखाते है
अरमानों को पंख लगाते है
ये ख्वाब ही है
जो हकीक़त से रूबरू कराते है
बेरँग दुनियाँ को रंगीन बनाते है
ख्वाबों पर निगाहें डाले है
टेढ़ी लकीरों को देने मायने है
के ख्वाब है तो जिंदगी है
ख्वाब बिन जिंदगी अधूरी है